Heart Attack और Cardiac Arrest में क्या अंतर है?

Heart Attack और Cardiac Arrest में क्या अंतर है?

Heart Attack और Cardiac Arrest में अंतर – अगर आप हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट के बीच सही अंतर जानना चाहते हैं, तो इस लेख को अच्छी तरह से पढ़ें। हमने समझाया है कि वे एक दूसरे से कैसे भिन्न हैं। इस लेख को पूरा पढ़कर आप अंतर समझ सकते हैं। तो चलिए शुरू करते हैं दोनों का परिचय।

दिल का दौरा और कार्डिएक अरेस्ट अंतर: Heart Attack और Cardiac Arrest

ज्यादातर लोग सोचते हैं कि ये दोनों एक ही हैं, लेकिन यह सच नहीं है। आपको यह समझना होगा कि इन दोनों मेडिकल इमरजेंसी में मानव शरीर का क्या होता है। तो आइए जानते हैं हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट के बारे में। – Heart Attack और Cardiac Arrest में अंतर

दिल का दौरा: Heart Attack और Cardiac Arrest में अंतर

आपका हृदय एक मांसपेशी है, और सभी मांसपेशियों की तरह, आपके हृदय को ऑक्सीजन युक्त रक्त की आवश्यकता होती है। कोरोनरी धमनियां यह रक्त आपके हृदय को प्रदान करती हैं। नसों में ब्लॉकेज होने पर हार्ट अटैक आता है। रक्त के थक्के भी दिल के दौरे का कारण बन सकते हैं। इस प्रकार, हृदय की मांसपेशियों की मृत्यु से बचने के लिए ब्लॉकों को हल करना आवश्यक है।

हृदय गति रुकना:

यह हार्ट अटैक से अलग है। कार्डिएक अरेस्ट का मतलब है कि दिल ने धड़कना बंद कर दिया है। लेकिन दिल के दौरे में, यह धड़कना जारी रखता है, भले ही रक्त की आपूर्ति बंद हो गई हो।

हार्ट अटैक के लक्षण: Heart Attack और Cardiac Arrest में अंतर

दिल के दौरे का सबसे आम लक्षण सीने में दर्द है। छाती के बीचोंबीच कई मिनट तक जकड़न महसूस होती है। आराम करने पर यह घटता है। यह दर्द हाथ, जबड़े, गर्दन, पीठ और पेट जैसे अन्य क्षेत्रों में फैल सकता है। अन्य लक्षणों में सांस की तकलीफ, खांसी, घरघराहट, बीमार होने की भावना, चिंता, चक्कर आना या हल्की कठोरता, पसीना, कमजोरी और धड़कन शामिल हैं। – Heart Attack और Cardiac Arrest में अंतर

कार्डिएक अरेस्ट के लक्षण:

कार्डियक अरेस्ट में चेतना और प्रतिक्रिया अचानक खो जाती है, और अन्य लक्षण सांस नहीं लेना और स्पंदन नहीं हैं। दिल के रुकने से दालों की कमी हो जाती है। इसके परिणामस्वरूप शरीर के अंग रक्त से वंचित हो जाते हैं और मृत्यु का कारण बन सकते हैं। यह कमजोरी, धड़कन, मतली, कमजोरी, सांस की तकलीफ, चक्कर आना और सीने में दर्द जैसे चेतावनी संकेत देता है।

दिल का दौरा पड़ने के कारण:

दिल के दौरे में आपके दिल को रक्त की आपूर्ति में कटौती शामिल है। यह रक्त के एक बड़े हिस्से को प्रभावित करता है और हृदय की धड़कन को रोक सकता है। इससे कार्डियक अरेस्ट हो सकता है। सीएचडी (कोरोनरी हृदय रोग) दिल के दौरे का कारण बनता है। इसका कारण कोरोनरी धमनियों में फैटी जमा का निर्माण है। इस स्थिति के लिए चिकित्सा शब्द एथेरोस्क्लेरोसिस है। यदि आप धूम्रपान करते हैं, उच्च रक्तचाप और मधुमेह है, अधिक वजन है, सक्रिय रूप से व्यायाम नहीं कर रहा है, काफी उम्रदराज है, हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास है, वायु प्रदूषण और यातायात प्रदूषण के संपर्क में है, और स्वस्थ नहीं है, तो आप जोखिम में हैं। आहार। सीएचडी वाले लोगों को दिल का दौरा पड़ सकता है यदि पट्टिका विभाजित हो जाती है और रक्त के थक्के कोरोनरी धमनियों को अवरुद्ध कर देती है।

कार्डिएक अरेस्ट के कारण:

सीएचडी, पेसमेकर की विफलता, श्वसन गिरफ्तारी, घुट, इलेक्ट्रोक्यूशन, हाइपोथर्मिया, हृदय संरचना में परिवर्तन, वेंट्रिकुलर टैचीकार्डिया, रक्तचाप में नाटकीय गिरावट इसके कारण होते हैं, और नशीली दवाओं के दुरुपयोग, अत्यधिक शराब की खपत, वेंट्रिकुलर फाइब्रिलेशन, और अज्ञात कारणों से कार्डियक अरेस्ट हो सकता है। वेंट्रिकुलर फाइब्रिलेशन एक असामान्य हृदय ताल है। यहां, आपके दिल का निचला कक्ष नियमित रूप से धड़कता है। दिल का दौरा भी कार्डियक अरेस्ट का कारण बन सकता है।

कुछ बुलेट पॉइंट के साथ हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट के बीच का अंतर:

  • दोनों अलग हैं।
  • दिल का दौरा पड़ने पर कोरोनरी धमनियां अवरुद्ध हो जाती हैं और हृदय को रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है। इस स्थिति का इलाज न करने पर लोगों की मौत हो सकती है।
  • यदि हृदय शरीर के चारों ओर रक्त पंप करना बंद कर देता है, तो यह कार्डिएक अरेस्ट है। एक व्यक्ति सामान्य रूप से सांस लेना बंद कर सकता है।
  • कई लोगों को दिल का दौरा पड़ने की वजह से कार्डिएक अरेस्ट होता है। इसका कारण यह है कि एक व्यक्ति एक खतरनाक हृदय ताल विकसित कर सकता है जो कार्डियक अरेस्ट का कारण बनता है।
  • दोनों चिकित्सा आपात स्थिति हैं, और आपको उस व्यक्ति तक पहुंचने या अस्पताल ले जाने के लिए तुरंत एक एम्बुलेंस को कॉल करना होगा।
  • यदि कोई व्यक्ति दिल की बीमारियों और दिल के दौरे के इलाज से बचता है या देरी करता है, तो कार्डियक अरेस्ट की संभावना अधिक होती है। यह किसी भी मरीज के लिए जानलेवा हो सकता है।

अंतिम विचार: Heart Attack और Cardiac Arrest में क्या अंतर है?

क्या आपने हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में अंतर समझा है? बेशक, ये मेडिकल इमरजेंसी हैं, और आपको एक व्यक्ति को अस्पताल ले जाना होगा। इस जानकारी को पढ़ने के बाद आप हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट के अंतर को समझ गए होंगे। ये दोनों एक जैसे नहीं हैं और शरीर पर अलग-अलग प्रभाव डालते हैं, लेकिन दिल का दौरा पड़ने से कार्डियक अरेस्ट हो सकता है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply